Email :- vmentorcoaching@gmail.com
Mobile No :- +919599538438, +918824358962
Address :- Near Chandra Mahal Garden, Agra Road Jaipur, 302031, India

Sunday, November 20, 2016

दैनिक समसामयिकी 20 November 2016(Sunday)


1.में भारत ने किया मौत की सजा पर रोक का विरोध
• भारत ने संयुक्त राष्ट्र में मौत की सजा पर रोक लगाने वाले प्रस्ताव का विरोध किया है। मानवाधिकार मामलों से जुड़ी महासभा की विशेष समिति ने इससे संबंधित प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है। 
• यूएन में भारतीय काउंसलर मयंक जोशी ने कहा कि मौत की सजा पर रोक का प्रस्ताव घरेलू कानून के खिलाफ है। यह कानून बनाने और दंड निर्धारित करने के संप्रभु अधिकार के भी विरुद्ध है। 
• सिंगापुर की ओर से मृत्युदंड पर रोक संबंधी प्रस्ताव का न्यूजीलैंड समेत कुछ अन्य देशों ने समर्थन किया है। भारत के अलावा अमेरिका और अन्य सदस्य इसके विरोध में हैं। महासभा की समिति ने इसे 38 के मुकाबले 115 मतों से स्वीकार कर लिया है। 

• भारत ने इसके खिलाफ में वोट किया है। मयंक जोशी ने प्रस्ताव पर बहस के दौरान इसका पुरजोर विरोध किया। उन्होंने समिति को बताया कि भारत में दुर्लभतम मामले में ही मौत की सजा दी जाती है। 
• इससे पहले दोषी को कई स्तरों पर खुद को निदरेष साबित करने का मौका दिया जाता है। पिछले साल याकूब मेनन को फांसी पर चढ़ाया गया था।
2. भारत के साथ अमेरिकी रिश्तों में मजबूती बनी रहेगी
• भारत हमारा प्रमुख सहयोगी देश है और आगे भी रहेगा। सत्ता में बदलाव की प्रक्रिया शुरू होने के दौर में यह बात अमेरिका की ओबामा सरकार ने कही है। साथ ही पाकिस्तान सरकार से भी जोर देकर कहा है कि वह आतंकी संगठनों के खिलाफ जरूरी कार्रवाई करे। 
• अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा, हम भारत के साथ अपने रिश्तों को बहुत महत्व और सम्मान देते हैं। दोनों देश रिश्तों को और मजबूत बनाने के लिए बहुत यादा प्रयास कर रहे हैं। 
• ओबामा सरकार के बाकी बचे दिनों में भी यह कार्य जारी रहेगा। किर्बी ने यह बात नवनियुक्त भारतीय राजदूत नवतेज सरना के स्वागत में कही। उन्होंने उम्मीद जताई कि नए राष्ट्रपति के कार्यकाल में भी भारत के साथ संबंधों में यह गर्मजोशी बनी रहेगी। किर्बी ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं कि भारत के साथ अमेरिकी रिश्ते दुनिया के हर कोने के लिए हैं। 
• वह हर जगह समान रूप से मजबूत हैं और हम वहां साथ मिलकर कार्य कर रहे हैं। भविष्य में ये किस रूप में होंगे, इसके बारे में अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। 
• व्हाइट हाउस के प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रपति ओबामा ने जोर देकर कहा है कि पाकिस्तान अपनी धरती पर शरण पाए आतंकियों के खिलाफ बिना देर किए सख्त कार्रवाई करे। 
• राष्ट्रपति ने साफ कर दिया है कि किसी भी देश को अपने यहां पर आतंकियों को शरण देकर उन्हें अन्य देशों पर हमला करने की अनुमति नहीं दी जा सकती। 
• राष्ट्रपति का यह सख्त रुख व्हाइट हाउस में 6,65,769 लोगों की अर्जी दाखिल होने के बाद सामने आया है। 
• इन अर्जियों में राष्ट्रपति से पाक को आतंकी राष्ट्र घोषित करने की मांग की गई है। ऐसी ही मांग अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा में सांसद टेड पो और डाना रोहरबैचर ने अपने प्रस्ताव में की है। यह प्रस्ताव फिलहाल संसद में लंबित है।
3. पेरिस समझौता : क्रियान्वयन की कार्ययोजना पारित
• अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा पेरिस जलवायु समझौते से अमेरिका का नाम वापस लिए जाने की आशंकाओं के बीच भारत समेत करीब 200 देशों ने यहां एक अहम संयुक्त राष्ट्र शिखर सम्मेलन में वर्ष 2018 तक इस ऐतिहासिक समझौते के क्रि यान्वयन की कार्य योजना पारित की।
• दो सप्ताह के विचार विमर्श के बाद माराकेश जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन में इस बात को भी रेखांकित किया गया कि क्योटो प्रोटोकाल में विकसित देशों की प्रतिबद्धताओं के अनुरूप उत्सर्जन कम करने के लिए उनकी ओर से शीघ्र कदम उठाए जाने की तत्काल आवश्यकता है। 
• क्योटो प्रोटोकॉल वर्ष 2020 में समाप्त होगा। माराकेश बैठक में मुख्य रूप से प्रक्रि या संबंधी मामलों पर वार्ता की गई। यह बैठक शुक्रवार रात निर्धारित समय से अधिक अवधि तक चली और भारत समेत कई देशों ने कुछ मसौदा प्रस्तावों को लेकर कुछ चिंताएं व्यक्त की। 
• इस दौरान किए गए फैसले ने पेरिस समझौते के शीघ्र क्रि यान्वयन का मंच तैयार कर दिया है। पेरिस समझौते को पिछले साल दिसंबर में अंतिम रूप दिया गया था और यह एक वर्ष से भी कम समय में लागू हो गया।अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ट्रंप के प्रशासन के तहत अमेरिका के नाम वापस लिए जाने की आशंका संबंधी रिपोटरें का मामला इस सम्मेलन में छाया रहा। 
• सम्मेलन के अध्यक्ष सलाहेद्दीन मेजौआर ने एक दस्तावेज पारित किया, जिसमें सभी पक्षों ने ‘‘प्रगति की समीक्षा’ के लिए 2017 में दोबारा बैठक करने पर सहमति जताई है।
• इस सम्मेलन के दौरान शुक्रवार को सदस्य देशों से जलवायु परिवर्तन से ‘‘तत्काल प्राथमिकता’ के आधार पर निपटने की अपील की गई थी और यह बात रेखांकित की गई थी कि जलवायु ‘‘खतरनाक तरीके से और बेतहाशा’ दर से गर्म हो रही है। 
• यूएनएफसीसीसी ने एक बयान में कहा, ‘‘इस बीच सरकारों ने आने वाले वर्षो एवं दशकों में भरोसा, सहयोग और पेरिस समझौते की सफलता सुनिश्चित करने के मकसद से इस समझौते के संचालन के लिए नियम पुस्तिका पूरी करने की खातिर 2018 तक की समय सीमा तय की।’
• मैजौआर ने कहा कि मोरोक्को इस सीओपी को सफल बनाने के लिए पूरी तरह जुटा हुआ है और अध्यक्ष के रूप में अपनी भूमिका को उत्साहपूर्वक निभाएगा।
4. कृत्रिम हृदय का प्रत्यारोपण करने वाले पहले एवं प्रसिद्ध हृदय शल्य चिकित्सक डेंटन कूली का अमेरिका में निधन
• कृत्रिम हृदय का प्रत्यारोपण करने वाले पहले एवं प्रसिद्ध हृदय शल्य चिकित्सक डेंटन कूली का अमेरिका में निधन हो गया। वह 96 साल के थे। टेक्सास हर्ट इंस्टीट्यूट के संस्थापक कूली ने अनेक ऐसी तकनीकों की शुरुआत की, जिनका इस्तेमाल हृदय शल्य चिकित्सा में आज भी किया जाता है। 
• उन्होंने अपने चिकित्सक दल के साथ मिलकर 118,000 से ज्यादा ओपन हार्ट सर्जरी की। 
• डेंटन ने इसी शहर में ‘‘टेक्सास हर्ट इंस्टीट्यूट’ की नींव रखी और हृदय शोध एवं तकनीक का वैश्विक केन्द्र बनाया।’

Sorce of the News (With Regards):- compile by Dr Sanjan,Dainik Jagran(Rashtriya Sanskaran),Dainik Bhaskar(Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara(Rashtriya Sanskaran) Hindustan dainik(Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times(Hindi& English)

No comments:

Post a Comment