Email :- vmentorcoaching@gmail.com
Mobile No :- +919599538438, +918824358962
Address :- Near Chandra Mahal Garden, Agra Road Jaipur, 302031, India

Sunday, November 27, 2016

=>राष्ट्रीय आय

=>राष्ट्रीय आय
- देश में उत्पन्न समस्त वस्तुओं तथा सेवाओं के मौद्रिक मूल्य की वह मात्रा जो निश्चित समयावधि में दो बार बिना गिने मापी जाए, राष्ट्रीय आय (national income) कहलाती है. साधारणतः शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद को राष्ट्रीय आय कहा जाता है.
=>राष्‍ट्रीय आय को जानने के लिए सूत्र ........
राष्ट्रीय आय = शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद (साधारण लागत पर) = बाजार मूल्य पर शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद-अप्रत्यक्ष कर + सब्सिडी = (बाजार मूल्य पर सकल घरेलू उत्पाद यानी (GDP)+ शुद्ध विदेशी आय-मूल्य ह्रास)-अप्रत्यक्ष कर+सब्सिडी
*****


=>शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद
सकल राष्ट्रीय उत्पाद में से मूल्य ह्रास की राशि घटाने के बाद शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद (nnp) ज्ञात किया जाता है।
*********
=>सकल घरेलू उत्पाद
- किसी देश की सीमा में निर्धारित समयावधि अमूमन एक साल में पैदा वस्तुओं का कुल बाजार मूल्य उस देश का सकल घरेलू उत्पाद कहलाता है.
******
=>सकल राष्ट्रीय उत्पाद
- सकल राष्‍ट्रीय उत्‍पाद (GNP) का इस्‍तेमाल भी राष्ट्रीय आय लेखांकन में किया जाता है.
इसकी गणना इस तरह से की जाती है कि अगर देश में सृजित लेकिन विदेशों को मिलने वाली आय घटा दी जाए, साथ ही देश को मिलने वाली विदेशों में अर्जित आय जोड़ दी जाए तो इससे सकल राष्ट्रीय उत्पाद प्राप्त होता है.
*****
=>मिश्रित अर्थव्यवस्था
- मिश्रित अर्थव्यवस्था (mixed economy) यानी ऐसी अर्थव्यवस्था जिसमें निजी तथा सरकारी दोनों क्षेत्रों का सह अस्तित्व हो.
- भारत में इस समय मिश्रित अर्थव्‍यवस्‍था ही है. जहां अनेक बड़ी सार्वजनिक कंपनियां हैं तो निजी क्षेत्र की कंपनियों को भी विकास के समान अवसर उपलब्‍ध हैं.

No comments:

Post a Comment