Email :- vmentorcoaching@gmail.com
Mobile No :- +918290909894, +918824358962
Address :- Near Chandra Mahal Garden, Agra Road Jaipur, 302031, India

Thursday, November 24, 2016

Geography ** वर्षा **

1.वर्षा को कैसे परिभाषित करेंगे ?
►- जब जलवाष्प की बूंदे जल क रूप में पृथ्वी पर गिरती है तो उसे वर्षा कहते हैं ।
वायु के ठंडा होने की विधियों के अनुसार वर्षा तीन प्रकार की होती है-

1.संवहनीय वर्षा
2.पर्वतकृत वर्षा
3.चक्रवाती वर्षा
►- संवहनीय वर्षा- जब धरती बहुत गर्म हो जाती है, तो उसके संपर्क में आने वाली हवाएं भी गर्म हो जाती हैं । हवाएं गर्म होकर फैलती हैं और हल्की हो जाती है । हल्की हवा ऊपर उठने लगती है और संवहनीय धाराएं बनाती हैं । ऊपर जाने पर यही हवा ठंडी हो जाती है और इसमें उपस्थित जलवाष्प का संघनन होने लगता है । संघनन से कपास मेघ बनते हैं जिसके परिणामस्वरूप मूसलाधार बारिस होती है । इसे संवहनीय वर्षा का नाम दिया गया है ।

►- पर्वतकृत वर्षा- जब जलवाष्प से लदी हुई गर्म हवा को किसी पर्वत या पठार की ढलान के साथ ऊपर चढ़ना पड़ता है तो यह वायु ठंडी हो जाती है । ठंडी होने पर वायु संतृत्प हो जाती है और ऊपर बढ़ते ही संघनन होने लगता है । इस प्रक्रिया से वर्षा होती है । इसे पर्वतकृत वर्षा का नाम दिया गया है ।
►- चक्रवाती वर्षा- चक्रवातों द्वारा होने वाली वर्षा । इसे वाताग्री वर्षा भी कहते हैं ।
2.चक्रवात (cyclones) और प्रतिचक्रवात(Anticyclones)
►- चक्रवात , प्रतिचक्रवात इसकी उत्पत्ति विभिन्न वायुराशियों के मिलन से होती है । जिसमें वायु की तीव्र गति ऊपर उठकर बवंडर का रुप ले लेती है ।
चक्रवात का निर्माण दो भिन्न तापमान वाली वायुराशियों के मिलने से होती है ।
►- टी-मापक पर चक्रवातों की शक्ति का मापन किया जाता है ।
चक्रवात में वायु के चलने की दिशा उत्तरी गोलार्द्ध में घड़ी की सूइयों के अनुकूल तथा दक्षिणी
►- गोलार्द्ध में घड़ी की सुइयों के विपरित होती है ।
टारनेडो, हरीकेंस और टाइफून चक्रवात के उदाहरण हैं ।
►- चक्रवात मे हवा केंद्र की तरफ आती है और ऊपर उठकर ठंडी होती है जिससे वर्षा होती है । जबकि प्रति चक्रवात में मौसम साफ होता है ।
►- जब केंद्र में दाब अधिक होता है तो केंद्र स हवाएं बाहर की ओर चलती हैं, इसे प्रति चक्रवात कहा जाता है ।
►- टारनेडो भयंकर अल्पकालीन तूफान है । ऑस्ट्रेलिया एवं संयुक्त राज्य अमेरिका के मिसीसिपी इलाकों में इस तूफान को टारनेडो कहा जाता है । यह जल और स्थल दोनों में उत्पन्न होता है ।
►- टारनेडो में स्थलीय हवाओं की गति 325 किलोमीटर प्रति घंटा होती है ।
►- हरीकेंस में हवाओं की गति 121 किलोमीटर प्रति घंटा होती है ।
►- हरीकेंस, अटलांटिक महासागर में उठने वाली तथा पश्चिमी द्वीप समूह के चारों ओर चलने वली भयंकर चक्रवाती तूफान है ।
►- प्रशांत महासागर में उठने वाली और चीन सागर में चलने वाली वक्रगामी चक्रवात को टाइफून कहते हैं ।
►- टाइफून की गति 160 किलोमीटर प्रति घंटा है ।

No comments:

Post a Comment