Email :- vmentorcoaching@gmail.com
Mobile No :- +919599538438, +918824358962
Address :- Near Chandra Mahal Garden, Agra Road Jaipur, 302031, India

Thursday, December 01, 2016

दैनिक समसामयिकी 29 November 2016(Tuesday)

1.नोटबंदी पर बनेगी मुख्यमंत्रियों की समिति
• नोटबंदी को लेकर देशभर में उठ रहे राजनीतिक उबाल की थाह लेने के लिए केंद्र सरकार शीघ्र ही मुख्यमंत्रियों की एक समिति बनाने वाली है। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राजनीतिक विरोध और आम आदमी को हो रही दिक्कतों की तह तक जाना चाहते हैं क्योंकि तामम दिक्कतों के बावजूद समाज के किसी भी वर्ग में नोटबंदी के खिलाफ आक्रोश नहीं उभरा है। 

• लोग दिक्कतें बताते तो हैं लेकिन लगे हाथ यह भी कह देते हैं कि नोटबंदी का फैसला सही है। उन्हें लगता है कि यह फैसला आम आदमी के हित में है। भविष्य में कुछ ऐसा होने वाला है जो अच्छा ही होगा।प्रधानमंत्री इसी मर्म को समझना चाहते हैं। हालांकि वह नोटबंदी की घोषणा करते समय कह चुके हैं कि इससे आम आदमी को कुछ दिक्कतें हो सकती हैं।
• विभिन्न राज्यों में राजनीतिक दलों ने नोटबंदी के खिलाफ आवाजें उठाई हैं। गैर भाजपा शासित राज्यों में रानीतिक विरोध स्वाभाविक है। लेकिन प्रधानमंत्री पूरे देश का मूड भांपना चाहते हैं। इसलिए नोटबंदी पर मुख्यमंत्रियों की छह सदस्यों वाली समिति बनाने की तैयारी चल रही है। संभावना है कि इस समिति में तीन भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और तीन गैर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल होंगे।
• यह समिति राज्यों की आशंकाओं का निराकरण करने का काम करेगी और ऐसे मसलों पर केंद्र को राय देगी जिन पर तुरंत काम होना अत्यंत जरूरी है। इस समिति की घोषणा शीघ्र ही होगी।इस समिति की अध्यक्षता आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को सौंपने की तैयारी चल रही है।
• चंद्रबाबू के कार्यालय सूत्रों ने बताया कि सोमवार दोपहर केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने इस बारे में मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू को फोन किया और उन्होंने इस समिति की अध्यक्षता करने का आग्रह किया। विदित हो कि चंद्रबाबू नायडू उन गिने-चुने बड़े नेताओं में से एक हैं जो लगातार 500 व 1000 रपए के नोटों को प्रतिबंधित करने की मांग कर रहे थे।
• उन्होंने आठ नवम्बर को लिए गए नोटबंदी के फैसले का स्वागत किया है। हालांकि वह 2000 रपए के नोट चालू करने पर आपत्ति जता चुके हैं। नायडू प्रधानमंत्री मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट ‘‘स्वच्छ भारत’ पर गठित समिति की भी अगुवाई कर रहे हैं।

2. लोकसभा में आयकर कानून में संशोधन का बिल पेश
• काला धन रखने वालों के लिए सरकार एक और मौका लेकर आई है। हालांकि इस बार यह किसी तरह की स्कीम के तहत नहीं है। लेकिन काला धन बाहर निकालने की मुहिम में जुटी सरकार ने काले धन का खुलासा करने वालों को 50 फीसद टैक्स, पेनाल्टी और सरचार्ज चुकाकर उसे सफेद करने का एक मौका दिया है।
• हालांकि आयकर छापे में अघोषित आय पकड़े जाने पर 85 प्रतिशत टैक्स, पेनाल्टी और सरचार्ज भरना पड़ेगा।
• सरकार ने काले धन पर प्रहार करते हुए आयकर कानून में संशोधन कर अघोषित आय पर पेनाल्टी बढ़ाने के लिए यह कदम उठाया है। केंद्र ने पहली बार काले धन की लड़ाई को सीधे गरीबों के विकास से जोड़ते हुए ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना’ यानी पीएमजीकेवाई शुरू करने का एलान भी किया है।
• इस योजना के तहत काला धन घोषित करने वालों को 50 फीसद टैक्स, पेनाल्टी और सरचार्ज के भुगतान करना होगा। साथ ही उनकी अघोषित आय में से चौथाई राशि बैंकों में जमा करनी होगी। इस पर उन्हें ब्याज नहीं मिलेगा।
• इस योजना से जुटाई जाने वाली राशि को सरकार गरीबों की पढ़ाई,वास्थ्य जैसी सामाजिक सेवाओं तथा सिंचाई जैसी ढांचागत सुविधाओं पर खर्च करेगी। इस योजना में काला धन घोषित करने वालों के नाम गोपनीय रखे जाएंगे। सरकार के इस कदम को एक और एमनेस्टी स्कीम के तौर पर देखा जा रहा है।
• वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को ‘कराधान कानून (दूसरा संशोधन) विधेयक 2016’ लोकसभा में पेश कर आयकर काूनन 1961 और वित्त विधेयक 2016 में बदलाव का प्रस्ताव किया। इस बिल को धन विधेयक के रूप में लाया गया है।
• इस कारण विधेयक में रायसभा अड़ंगा नहीं लगा पाएगी और सरकार को इसे पास कराने में कोई दिक्कत नहीं होगी। इसके उद्देश्यों में साफ कहा गया है कि कर चोरी सरकार को गरीबी उन्मूलन व विकास कार्यक्रमों के लिए जरूरी संसाधनों से वंचित करती है। यह ईमानदार करदाताओं पर अतिरिक्त बोझ भी डालती है।
• यही वजह है कि काले धन पर अंकुश के लिए 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद किए गए हैं। हालांकि ऐसी चिंता जताई गई है कि कुछ लोग आयकर कानून के मौजूदा प्रावधानों की आड़ में काले धन को छुपा सकते हैं। इसलिए सरकार ने कानून में संशोधन का फैसला किया है।
• आयकर कानून में संशोधन होने पर अगर कोई व्यक्ति अपने पास जमा उस नकदी, निवेश या संपत्ति की खुद जानकारी देता है, जिसके अर्जित करने का जरिया बताने में वह असमर्थ है तो उसे 60 फीसद टैक्स व कर राशि का 25 फीसद सरचार्ज देना होगा।
• ऐसे व्यक्ति को उसकी काली कमाई का 75 फीसद टैक्स और दंड के रूप में चुकाना होगा। अगर वह खुद से इसे घोषित नहीं करता है और विभाग की जांच में पकड़ा जाता है तो उसे 10 फीसद पेनाल्टी भी देनी होगी। अनएक्सप्लेन्ड आय पकड़े जाने पर वह काले धन का 85 फीसद सरकार को देकर ही जान छुड़ा पाएगा।
• अब तक प्रावधान था कि कोई व्यक्ति आयकर कानून की धारा 115बीबीई के तहत अपनी अनएक्सप्लेंड आय (ऐसी आय जिसका वह जरिया न बता सके) घोषित करता है, तो उस पर 30 प्रतिशत टैक्स, सरचार्ज और सेस लगता था।
• इस तरह संशोधन के जरिये सरकार ने इस प्रावधान को अब और कठोर बनाया है।
• इस विधेयक के जरिये आयकर कानून की तलाशी और छापेमारी से जुड़ी धाराओं में भी संशोधन कर इन्हें कठोर बनाने का प्रस्ताव किया गया है।
• अभी कानून की धारा 271एएबी के तहत कोई व्यक्ति छापेमारी के दौरान अघोषित आय को स्वीकार कर रिटर्न दाखिल करके टैक्स का भुगतान कर देता है, तो उस पर मात्र 10 फीसद पेनाल्टी लगती है।
• अघोषित आय को स्वीकार नहीं करने पर 20 फीसद जुर्माना लगता है। नए प्रावधान के अनुसार ऐसे मामलों में टैक्स के साथ-साथ अघोषित आय की 30 प्रतिशत पेनाल्टी लगेगी।
3. फ्रांस में राष्ट्रपति चुनाव: फ्रैंचथैचर के नाम से मशहूर फियों को मिला कंजर्वेटिव टिकट
• फ्रांस में राष्ट्रपति पद के लिए टिकट की दौड़ में कंजर्वेटिव पार्टी की ओर से पूर्व प्रधानमंत्री फ्रांस्वा फियों जीत गए हैं। उन्हें ब्रिटेन की लौह महिला मारग्रेट थैचर की तर्ज पर फ्रैंच थैचर कहा जाता है।
• अब उनका मुकाबला धुर दक्षिणपंथी नेशनल पार्टी की मरीन ले पेन तथा सत्तारूढ़ सोशलिस्ट के उम्मीदवार से होगा। सोशलिस्ट पार्टी जनवरी में तय करेगी कि राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद फिर से चुनाव लड़ेंगे या नहीं। फ्रांस में राष्ट्रपति पद का चुनाव अगले साल अप्रैल में होगा।
• अमेरिका की तर्ज पर टिकट के लिए हुई पार्टी प्राइमरी में पूर्व राष्ट्रपति सर्कोज़ी पहले ही दौर में 20 नवंबर को दौड़ से बाहर हो गए थे। उन्हें महज 20. 6 प्रतिशत वोट मिले थे।
• अभी रविवार को हुए दूसरे दौर की प्राइमरी में फियों ने पूर्व प्रधानमंत्री एलें युप को हराया। फियों को करीब 67 प्रतिशत वोट मिले।
• मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, सत्तारूढ़ सोशलिस्ट पार्टी की लोकप्रियता घटती जा रही है। इसके अनुसार, अप्रैल में होने वाले रन ऑफ में उसके किसी उम्मीदवार के जीतने की संभावना कम ही है। ब्रेग्जिट और अमेरिका में ट्रम्प की जीत के बाद फ्रांस में राष्ट्रपति पद का चुनाव मुख्यधारा की पार्टियों के लिए बड़ी परीक्षा माना जा रहा है।
• कौनहैं फियों: फियों2007 से 2012 तक फ्रांस के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। उस समय निकोलस सर्कोज़ी राष्ट्रपति थे। फियों ने 2012 में सर्कोज़ी के राष्ट्रपति पद का चुनाव हारने के बाद इस्तीफा दे दिया था। 4 मार्च 1954 को जन्मे फियों के पिता नोटरी थे।
4. तुर्कमेनिस्तान से अफगानिस्तान तक पहला रेल संपर्क शुरू
• एशिया के दो पड़ोसी देश तुर्कमेनिस्तान और अफगानिस्तान के बीच दो अरब डॉलर की लागत से बनने वाले रेल संपर्क के पहले हिस्से को सोमवार को खोल दिया गया। इसे बाद में तजाकिस्तान तक बढ़ाया जाना है।
• तुर्कमेनिस्तान के राष्ट्रपति गुरबांगुली बरडीमुखामेदोव और उनके अफगानी समकक्ष अशरफ गनी ने यहां एक पारंपरिक तुर्की उत्सव में इस रेल संपर्क की शुरुआत की।
• तुर्कमेनिस्तान के इमामनजर से 46 मालवाहक बोगियों की एक रेल ने तीन किलोमीटर की दूरी तय कर अफगानिस्तान में अकीना स्थित सीमाशुल्क चौकी तक की यात्रा की। यह खंड 88 किलोमीटर की कुल परियोजना का अंतिम छोर है और इसका निर्माण दोनों देशों ने 2013 में शुरू किया था।
• बरडीमुखामेदोव ने अपने वक्तव्य में कहा, यह परियोजना ‘‘हमारे देशों के भाईचारे की मिसाल के तौर पर स्वर्ण अक्षरों में लिखी जाएगी। इसे बाद में बढ़ाकर तजाकिस्तान किया जाएगा।
• यदि यह 400 किलोमीटर परियोजना पूरी हो जाती है तो इससे एशिया के तीन देशों के बीच व्यापार में अभूतपूर्व वृद्धि आएगी।
5.ले.ज. एके भट्‌ट भारतीय सेना के नए डीजीएमओ
• ले.ज.एके भट्‌ट को भारतीय सेना का नया डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन्स (डीजीएमओ) बनाया है। वह ले.ज. रणवीर सिंह की जगह लेंगे।
• ले.ज. भट्‌ट गोरखा राइफल्स से हैं और अभी आर्मी हेडक्वार्टर में पोस्टेड हैं।
Sorce of the News (With Regards):- compile by Dr Sanjan,Dainik Jagran(Rashtriya Sanskaran),Dainik Bhaskar(Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara(Rashtriya Sanskaran) Hindustan dainik(Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times(Hindi& English)

No comments:

Post a Comment