Email :- vmentorcoaching@gmail.com
Mobile No :- +918290909894, +918824358962
Address :- Near Chandra Mahal Garden, Agra Road Jaipur, 302031, India

Friday, February 03, 2017

पर्यायवाची शब्द ( Hindi)

Words starts with :- अ
अग्नि - आग, अनल, पावक, दहन, वह्नि, कृशानु।
अपमान - अनादर, अवज्ञा, अवहेलना, अवमान, तिरस्कार।
अलंकार - आभूषण, भमदक , विभूषण, गहना, जेवर।
अहंकार- दंभ, गर्व, अभिमान, दर्प, मद, घमंड, मान।
अमृत- सुधा, अमिय, पीयूष, सोम, मधु, अमी।
असुर- दैत्य, दानव, राक्षस, निशाचर, रजनीचर, दनुज, रात्रिचर, तमचर।

अतिथि- मेहमान, अभ्यागत, आगन्तुक, पाहूना।
अनुपम- अपूर्व, अतुल, अनोखा, अदभुत, अनन्य।
अर्थ- धन्, द्रव्य, मुद्रा, दौलत, वित्त, पैसा।
अश्व- हय, तुरंग, घोड़ा, घोटक, हरि, बाजि, सैन्धव।
अंधकार- तम, तिमिर, तमिस्र, अँधेरा, तमस, अंधियारा।
आम- रसाल, आम्र, सौरभ, मादक, अमृतफल, सहुकार।
आग- अग्नि, अनल, हुतासन, पावक, दहन, ज्वलन, धूमकेतु, कृशानु, वहनि, शिखी, वह्नि।
आँख- लोचन, नयन, नेत्र, चक्षु, दृग, विलोचन, दृष्टि, अक्षि।
आकाश- नभ, गगन, अम्बर, व्योम, अनन्त, आसमान, अंतरिक्ष, शून्य, अर्श।
आनंद- हर्ष, सुख, आमोद, मोद, प्रमोद, उल्लास।
आश्रम- कुटी, विहार, मठ, संघ, अखाडा।
आंसू- नेत्रजल, नयनजल, चक्षुजल, अश्रु।
आत्मा- जीव, देव, चैतन्य, चेतनतत्तव, अंतःकरण।
इच्छा- अभिलाषा, अभिप्राय, चाह, कामना, लालसा, मनोरथ, आकांक्षा, अभीष्ट।
इन्द्र- सुरेश, सुरेन्द्र, देवेन्द्र, सुरपति, शक्र, पुरंदर, देवराज, महेन्द्र, मधवा, शचीपति, मेघवाहन, पुरुहूत, यासव।
इन्द्राणि - इन्द्रवधू, मधवानी, शची, शतावरी, पोलोमी।
ईश्वर- परमात्मा, प्रभु, ईश, जगदीश, भगवान, परमेश्वर, जगदीश्वर, विधाता।
उपवन - बाग़, बगीचा, उद्यान, वाटिका, गुलशन।
उक्ति - कथन, वचन, सूक्ति।
उग्र - प्रचण्ड, उत्कट, तेज, महादेव, तीव्र, विकट।
उचित - ठीक, मुनासिब, वाज़िब, समुचित, युक्तिसंगत, न्यायसंगत, तर्कसंगत, योग्य।
उच्छृंखल - उद्दंड, अक्खड़, आवारा, अंडबंड, निरकुंश, मनमर्जी, स्वेच्छाचारी।
उजड्ड - अशिष्ट, असभ्य, गँवार, जंगली, देहाती, उद्दंड, निरकुंश।
उजला - उज्ज्वल, श्वेत, सफ़ेद, धवल।
उजाड - जंगल, बियावान, वन।
उजाला - प्रकाश, रोशनी, चाँदनी।
उत्कष - समृद्धि, उन्नति, प्रगति, प्रशंसा, बढ़ती, उठान।
उत्कृष्ट - उत्तम, उन्नत, श्रेष्ठ, अच्छा, बढ़िया, उम्दा।
उत्कोच - घूस, रिश्वत।
उत्पति - उद्गम, पैदाइश, जन्म, उद्भव, सृष्टि, आविर्भाव, उदय।
उद्धार - मुक्ति, छुटकारा, निस्तार, रिहाई।
उपाय - युक्ति, साधन, तरकीब, तदबीर, यत्न, प्रयत्न।
ऊधम - उपद्रव, उत्पात, धूम, हुल्लड़, हुड़दंग, धमाचौकड़ी।
ऐक्य - एकत्व, एका, एकता, मेल।
ऐश्वर्य - समृद्धि, विभूति।
ओज - तेज, शक्ति, बल, वीर्य।
ओंठ- ओष्ठ, अधर, होठ।
औचक - अचानक, यकायक, सहसा।
औरत - स्त्री, जोरू, घरनी, घरवाली।
ऋषि - मुनि, साघु, यति, संन्यासी, तत्वज्ञ, तपस्वी।
कच - बाल, केश, कुन्तल, चिकुर, अलक, रोम, शिरोरूह।
कमल- नलिन, अरविन्द, उत्पल, राजीव, पद्म, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, जलजात, शतदल, पुण्डरीक, इन्दीवर।
कबूतर - कपोत, रक्तलोचन, पारावत, कलरव, हारिल।
कामदेव - मदन, मनोज, अनंग, काम, रतिपति, पुष्पधन्वा, मन्मथ।
कण्ठ - ग्रीवा, गर्दन, गला, शिरोधरा।
कृपा- प्रसाद, करुणा, दया, अनुग्रह।
किताब- पोथी, ग्रन्थ, पुस्तक।
किनारा - तीर, कूल, कगार, तट।
कपड़ा- चीर, वसन, पट, अंशु, कर, मयुख, वस्त्र, अम्बर, परिधान।
किरण- ज्योति, प्रभा, रश्मि, दीप्ति, मरीचि।
किसान- कृषक, भूमिपुत्र, हलधर, खेतिहर, अन्नदाता।
कृष्ण- राधापति, घनश्याम, वासुदेव, माधव, मोहन, केशव, गोविन्द, गिरधारी।
कान- कर्ण, श्रुति, श्रुतिपटल, श्रवण, श्रोत, श्रुतिपुट।
कोयल- कोकिला, पिक, काकपाली, बसंतदूत, सारिका, कुहुकिनी, वनप्रिया।
क्रोध- रोष, कोप, अमर्ष, कोह, प्रतिघात।
कीर्ति - यश, प्रसिद्धि।
खग - पक्षी, द्विज, विहग, नभचर, अण्डज, शकुनि, पखेरू।
खंभा स्तूप, स्तम्भ, खंभ।
खल - दुर्जन, दुष्ट, घूर्त, कुटिल।
खून - रक्त, लहू, शोणित, रुधिर।
गज- हाथी, हस्ती, मतंग, कूम्भा, मदकल ।
गाय- गौ, धेनु, सुरभि, भद्रा, रोहिणी।
गंगा- देवनदी, मंदाकिनी, भगीरथी, विश्नुपगा, देवपगा, ध्रुवनंदा, सुरसरिता, देवनदी, जाह्नवी, त्रिपथगा।
गणेश- विनायक, गजानन, गौरीनंदन, गणपति, गणनायक, शंकरसुवन, लम्बोदर, महाकाय, एकदन्त।
गृह- घर, सदन, गेह, भवन, धाम, निकेतन, निवास, आलय, आवास, निलय, मंदिर।
गर्मी- ताप, ग्रीष्म, ऊष्मा, गरमी, निदाघ।
गुरु - शिक्षक, आचार्य, उपाध्याय।
घट - घड़ा, कलश, कुम्भ, निप।
घर - आलय, आवास, गेह, गृह, निकेतन, निलय, निवास, भवन, वास, वास-स्थान, शाला, सदन।
घृत - घी, अमृत, नवनीत।
घास - तृण, दूर्वा, दूब, कुश, शाद।
चरण- पद, पग, पाँव, पैर, पाद।
चतुर - विज्ञ, निपुण, नागर, पटु, कुशल, दक्ष, प्रवीण, योग्य।
चंद्रमा- चाँद, हिमांशु, इंदु, विधु, तारापति, चन्द्र, शशि, हिमकर, राकेश, रजनीश, निशानाथ, सोम, मयंक, सारंग, सुधाकर, कलानिधि।
चाँदनी - चन्द्रिका, कौमुदी, ज्योत्स्ना, चन्द्रमरीचि, उजियारी, चन्द्रप्रभा, जुन्हाई।
चाँदी - रजत, सौध, रूपा, रूपक, रौप्य, चन्द्रहास।
चोटी - मूर्धा, शीश, सानु, शृंग।
छतरी - छत्र, छाता, छत्ता।
छली - छलिया, कपटी, धोखेबाज।छवि - शोभा, सौंदर्य, कान्ति, प्रभा।
छानबीन - जाँच, पूछताछ, खोज, अन्वेषण, शोध, गवेषण।
छैला - सजीला, बाँका, शौकीन।
छोर - नोक, कोर, किनारा, सिरा।
जल- अमृत, सलिल, वारि, नीर, तोय, अम्बु, उदक, पानी, जीवन, पय, पेय।
जगत - संसार, विश्व, जग, जगती, भव, दुनिया, लोक, भुवन।
जीभ - रसना, रसज्ञा, जिह्वा, रसिका, वाणी, वाचा, जबान।
जंगल- विपिन, कानन, वन, अरण्य, गहन, कांतार, बीहड़, विटप।
जेवर - गहना, अलंकार, भूषण, आभरण, मंडल।
ज्योति - आभा, छवि, द्युति, दीप्ति, प्रभा, भा, रुचि, रोचि।
झूठ- असत्य, मिथ्या, मृषा, अनृत।
तरुवर - वृक्ष, पेड़, द्रुम, तरु, विटप, रूंख, पादप।
तलवार - असि, कृपाण, करवाल, खड्ग, चन्द्रहास।
तालाब- सरोवर, जलाशय, सर, पुष्कर, पोखरा, जलवान, सरसी, तड़ाग।
तीर - शर, बाण, विशिख, शिलीमुख, अनी, सायक।
दास- सेवक, नौकर, चाकर, परिचारक, अनुचर, भृत्य, किंकर।
दधि - दही, गोरस, मट्ठा, तक्र।
दरिद्र- निर्धन, ग़रीब, रंक, कंगाल, दीन।
दिन- दिवस, याम, दिवा, वार, प्रमान, वासर, अह्न।
दीन - ग़रीब, दरिद्र, रंक, अकिंचन, निर्धन, कंगाल।
दीपक - दीप, दीया, प्रदीप।
दुःख- पीड़ा,कष्ट, व्यथा, वेदना, संताप, शोक, खेद, पीर, लेश।
दूध- दुग्ध, क्षीर, पय, गौरस, स्तन्य।
दुष्ट- पापी, नीच, दुर्जन, अधम, खल, पामर।
दाँत - दशन, रदन, रद, द्विज, दन्त, मुखखुर।
दर्पण- शीशा, आरसी, आईना, मुकुर।
दुर्गा- चंडिका, भवानी, कुमारी, कल्याणी, महागौरी, कालिका, शिवा, चण्डी, चामुण्डा।
देवता- सुर, देव, अमर, वसु, आदित्य, लेख, अजर, विबुध।
देह - काया, तन, शरीर, वपु, गात।
धन- दौलत, संपत्ति, सम्पदा, वित्त।
धरती- धरा, धरती, वसुधा, ज़मीन, पृथ्वी, भू, भूमि, धरणी, वसुंधरा, अचला, मही, रत्नवती, रत्नगर्भा।
धनुष- चाप्, शरासन, कमान, कोदंड, धनु।
नदी- सरिता, तटिनी, सरि, सारंग, जयमाला, तरंगिणी, दरिया, निर्झरिणी।
नया- नूतन, नव, नवीन, नव्य।
नाव- नौका, तरणी, तरी।
प.
 पवन- वायु, हवा, समीर, वात, मारुत, अनिल, पवमान, समीरण, स्पर्शन।
पहाड़- पर्वत, गिरि, अचल, शैल, धरणीधर, धराधर, नग, भूधर, महीधर
पक्षी- खेचर, दविज, पतंग, पंछी, खग, चिडिया, गगनचर, पखेरू, विहंग, नभचर।
पति- स्वामी, प्राणाधार, प्राणप्रिय, प्राणेश, आर्यपुत्र।
पत्नी- भार्या, वधू, वामा, अर्धांगिनी, सहधर्मिणी, गृहणी, बहु, वनिता, दारा, जोरू, वामांगिनी।
पुत्र- बेटा, आत्मज, सुत, वत्स, तनुज, तनय, नंदन।
पुत्री- बेटी, आत्मजा, तनूजा, सुता, तनया।
पुष्प- फूल, सुमन, कुसुम, मंजरी, प्रसून, पुहुप।
फूल - पुष्प, सुमन, कुसुम, गुल, प्रसून।
बादल- मेघ, घन, जलधर, जलद, वारिद, नीरद, सारंग, पयोद, पयोधर।
बालू- रेत, बालुका, सैकत।
बन्दर- वानर, कपि, कपीश, हरि।
बिजली- घनप्रिया, इन्द्र्वज्र, चंचला, सौदामनी, चपला, दामिनी, ताडित, विद्युत।
बगीचा - बाग़, वाटिका, उपवन, उद्यान, फुलवारी, बगिया।
बाण - सर, तीर, सायक, विशिख, शिलीमुख, नाराच।
बाल - कच, केश, चिकुर, चूल।
ब्रह्मा - विधि, विधाता, स्वयंभू, प्रजापति, पितामह, चतुरानन, विरंचि, अज, कर्तार, कमलासन, नाभिजन्म, हिरण्यगर्भ।
बलदेव - बलराम, बलभद्र, हलायुध, राम, मूसली, रोहिणेय, संकर्षण।
बहुत - अनेक, अतीव, अति, बहुल, प्रचुर, अपरिमित, प्रभूत, अपार, अमित, अत्यन्त, असंख्य।
ब्राह्मण - द्विज, भूदेव, विप्र, महीदेव, भूमिसुर, भूमिदेव।
भय - भीति, डर, विभीषिका।
भाई - तात, अनुज, अग्रज, भ्राता, भ्रातृ।
भूषण- जेवर, गहना, आभूषण, अलंकार।
भौंरा - मधुप, मधुकर, द्विरेप, अलि, षट्पद, भृंग, भ्रमर।
मनुष्य- आदमी, नर, मानव, मानुष, मनुज।
मदिरा- शराब, हाला, आसव, मधु, मद।
मोर- केक, कलापी, नीलकंठ, नर्तकप्रिय।
मधु- शहद, रसा, शहद, कुसुमासव।
मृग- हिरण, सारंग, कृष्णसार।मछली- मीन, मत्स्य, जलजीवन, शफरी, मकर।
माता- जननी, माँ, अंबा, जनयत्री, अम्मा।
मित्र- सखा, सहचर, साथी, दोस्त।
यम - सूर्यपुत्र, जीवितेश, श्राद्धदेव, कृतांत, अन्तक, धर्मराज, दण्डधर, कीनाश, यमराज।
यमुना - कालिन्दी, सूर्यसुता, रवितनया, तरणि-तनूजा, तरणिजा, अर्कजा, भानुजा।
युवति - युवती, सुन्दरी, श्यामा, किशोरी, तरुणी, नवयौवना।
रमा - इन्दिरा, हरिप्रिया, श्री, लक्ष्मी, कमला, पद्मा, पद्मासना, समुद्रजा, श्रीभार्गवी, क्षीरोदतनया।
रात- रात्रि, रैन, रजनी, निशा, यामिनी, तमी, निशि, यामा, विभावरी।
राजा- नृप, नृपति, भूपति, नरपति, नृप, भूप, भूपाल, नरेश, महीपति, अवनीपति।
रात्रि - निशा, क्षया, रैन, रात, यामिनी, शर्वरी, तमस्विनी, विभावरी।
रामचन्द्र - अवधेश, सीतापति, राघव, रघुपति, रघुवर, रघुनाथ, रघुराज, रघुवीर, रावणारि, जानकीवल्लभ, कमलेन्द्र, कौशल्यानन्दन।
रावण - दशानन, लंकेश, लंकापति, दशशीश, दशकंध, दैत्येन्द्र।
राधिका - राधा, ब्रजरानी, हरिप्रिया, वृषभानुजा।
लड़का - बालक, शिशु, सुत, किशोर, कुमार।
लड़की - बालिका, कुमारी, सुता, किशोरी, बाला, कन्या।
लक्ष्मी- कमला, पद्मा, रमा, हरिप्रिया, श्री, इंदिरा, पद्मजा, सिन्धुसुता, कमलासना।
लक्ष्मण - लखन, शेषावतार, सौमित्र, रामानुज, शेष।
लौह - अयस, लोहा, सार।
लता - बल्लरी, बल्ली, बेली।
वायु - हवा, पवन, समीर, अनिल, वात, मारुत।
वसन - अम्बर, वस्त्र, परिधान, पट, चीर।
विधवा - अनाथा, पतिहीना, राँड़।
विष- ज़हर, हलाहल, गरल, कालकूट।
वृक्ष- पेड़, पादप, विटप, तरू, गाछ, दरख्त, शाखी, विटप, द्रुम।
विष्णु- नारायण, दामोदर, पीताम्बर, चक्रपाणी।
विश्व - जगत, जग, भव, संसार, लोक, दुनिया।
विद्युत - चपला, चंचला, दामिनी, सौदामिनी, तड़ित, बीजुरी, घनवल्ली, क्षणप्रभा, करका।
वारिश - वर्षण, वृष्टि, वर्षा, पावस, बरसात।वीर्य - जीवन, सार, तेज, शुक्र, बीज।
वज्र - कुलिस, पवि, अशनि, दभोलि।
विशाल - विराट, दीर्घ, वृहत, बड़ा, महा, महान।
वृक्ष - गाछ, तरु, पेड़, द्रुम, पादप, विटप, शाखी।
शिव- भोलेनाथ, शम्भू, त्रिलोचन, महादेव, नीलकंठ, शंकर।
शरीर- देह, तनु, काया, कलेवर, अंग, गात।
शत्रु- रिपु, दुश्मन, अमित्र, वैरी, अरि, विपक्षी, अराति।
शिक्षक- गुरु, अध्यापक, आचार्य, उपाध्याय।
शेर - केहरि, केशरी, वनराज, सिंह, शार्दूल, हरि, मृगराज।
शेषनाग - अहि, नाग, भुजंग, व्याल, उरग, पन्नग, फणीश, सारंग।
शुभ्र - गौर, श्वेत, अमल, वलक्ष, शुक्ल, अवदात।शहद - पुष्परस, मधु, आसव, रस, मकरन्द।
श्र
षंड - हीजड़ा, नपुंसक, नामर्द।
षडानन - षटमुख, कार्तिकेय, षाण्मातुर।
सीता - वैदेही, जानकी, भूमिजा, जनकतनया, जनकनन्दिनी, रामप्रिया
साँप- अहि, भुजंग, ब्याल, सर्प, नाग, विषधर, उरग, पवनासन।
सूर्य- रवि, सूरज, दिनकर, प्रभाकर, आदित्य, दिनेश, भास्कर, दिनकर, दिवाकर, भानु, अर्क, तरणि, पतंग, आदित्य, सविता, हंस, अंशुमाली, मार्तण्ड।
संसार- जग, विश्व, जगत, लोक, दुनिया।
सोना- स्वर्ण, कंचन, कनक, हेम, कुंदन।
सिंह- केसरी, शेर, महावीर, हरि, मृगपति, वनराज, शार्दूल, नाहर, सारंग, मृगराज।
समुद्र- सागर, पयोधि, उदधि, पारावार, नदीश, जलधि, सिंधु, रत्नाकर, वारिधि।
सम - सर्व, समस्त, सम्पूर्ण, पूर्ण, समग्र, अखिल, निखिल।
समीप - सन्निकट, आसन्न, निकट, पास।
समूह- दल, झुंड, समुदाय, टोली, जत्था, मण्डली, वृंद, गण, पुंज, संघ, समुच्चय।
सभा - अधिवेशन, संगीति, परिषद, बैठक, महासभा।
सुन्दर - कलित, ललाम, मंजुल, रुचिर, चारु, रम्य, मनोहर, सुहावना, चित्ताकर्षक, रमणीक, कमनीय, उत्कृष्ट, उत्तम, सुरम्य।
सन्ध्या - सायंकाल, शाम, साँझ, प्रदोषकाल, गोधूलि।
स्त्री- सुन्दरी, कान्ता, कलत्र, वनिता, नारी, महिला, अबला, ललना, औरत, कामिनी, रमणी।
सुगंधि- सौरभ, सुरभि, महक, खुशबू।
स्वर्ग- सुरलोक, देवलोक, दिव्यधाम, ब्रह्मधाम, द्यौ, परमधाम, त्रिदिव, दयुलोक।
स्वर्ण - सुवर्ण, कंचन, हेन, हारक, जातरूप, सोना, तामरस, हिरण्य।
सरस्वती - गिरा, शारदा, भारती, वीणापाणि, विमला, वागीश, वागेश्वरी।
सहेली - आली, सखी, सहचरी, सजनी, सैरन्ध्री।
संसार - लोक, जग, जहान, जगत, विश्व।
हस्त - हाथ, कर, पाणि, बाहु, भुजा।
हिमालय- हिमगिरी, हिमाचल, गिरिराज, पर्वतराज, नगेश।
हिरण - सुरभी, कुरग, मृग, सारंग, हिरन।
होंठ - अक्षर, ओष्ठ, ओंठ।
हनुमान - पवनसुत, पवनकुमार, महावीर, रामदूत, मारुततनय, अंजनीपुत्र, आंजनेय, कपीश्वर, केशरीनंदन, बजरंगबली, मारुति।
हिमांशु - हिमकर, निशाकर, क्षपानाथ, चन्द्रमा, चन्द्र, निशिपति।
हंस - कलकंठ, मराल, सिपपक्ष, मानसौक।
हृदय- छाती, वक्ष, वक्षस्थल, हिय, उर।
हाथ- हस्त, कर, पाणि।
हाथी- नाग, हस्ती, राज, कुंजर,p
कूम्भा, मतंग, वारण, गज, द्विप, करी, मदक. 

No comments:

Post a Comment