Email :- vmentorcoaching@gmail.com
Mobile No :- +919599538438, +918824358962
Address :- Near Chandra Mahal Garden, Agra Road Jaipur, 302031, India

Wednesday, March 15, 2017

एक बार फिर हमारी टीम के द्वारा तैयार पुस्तक सूची यहाँ बताई जा रही है।

                                               
 प्रीलिम्स के लिए सबसे अच्छी किताबें 

• आरएस शर्मा (पुरानी एनसीईआरटी) का ‘प्राचीन भारत (एंसीएंट इंडिया– Ancient India)’ यूपीएससी आईएएस प्रिलिम्स के सिलेबस को अच्छे से कवर करता है और आपको कई प्रश्न ऐसे मिल जाएंगें जो सीधे– सीधे इस किताब से पूछे गए हों.
• सतीश चंद्र (पुरानी एनसीईआरटी) की मध्ययुगीन भारत का इतिहास मध्ययुगीन इतिहास खंड में अधिक प्रासंगिक किताब है क्योंकि इसमें भारत के मध्ययुगीन इतिहास के विषयों को अच्छी तरह से बताया गया है.
• ‘A brief history of modern India’ के साथ– साथ सुजाता मेनन की ‘Concise history of modern India’ किताब में आईएएस प्रीलिम्स परीक्षा के लिए आधुनिक इतिहास के पाठ्यक्रम की अच्छी कवरेज है.
• भारतीय संस्कृति खंड के लिए प्रत्याशियों को ‘facets of Indian culture’ पढ़नी चाहिए. इसके अलावा उन्हें सांस्कृतिक संसाधन एवं प्रशिक्षण केंद्र की वेबसाइट को भी देखना चाहिए.
• सांस्कृतिक संसाधन और प्रशिक्षण केंद्र की वेबसाइट से भारतीय संस्कृति : देश में जारी कुछ सांस्कृतिक गतिविधियों और मुद्दों से अपने नोट्स को अपडेट करने और उसी अनुसार तैयारी करने में यह मददगार होता है.
• भारतीय भूगोल .भौतिक भूगोल के लिए गोह चेंग लीऑन्ग की ‘certificate physical and human geography’ अधिक अच्छा विकल्प है. भौतिक भूगोल का अध्ययन करने के दौरान छात्रों को ऑक्सफोर्ड स्कूल के एटल्स को जरूर देखना चाहिए.
• भारतीय राजव्यवस्था की तैयारी के लिए जिन किताबों को पढ़ने की सबसे अधिक सलाह दी जाती है उनमें हैं लक्ष्मीकांत द्वारा रचित ‘Indian polity’ और डी.डी.बासु की 'an introduction to the constitution of India' .
• अर्थशास्त्र के मूल सिद्धांतों और शब्दावलियों के लिए, आईएएस की तैयारी के लिए NCERT ISCC की माइक्रो मैक्रो अर्थशास्त्र भारतीय अर्थव्यवस्था पर और पढ़ने के लिए सबसे अनुशंसित किताबें हैं रमेश सिंह की ‘Indian Economy’, मिश्रा और पुरी की ‘Indian Economy’ और Economic Survey (इकोनॉमिक सर्वे) आदि .
• पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी खंड की तैयारी के लिए आईएएस के प्रत्याशियों को एनआईओएस द्वारा पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी तंत्र पर दी जाने वाली अध्ययन सामग्रियों को जरूर पढ़ना चाहिए. इसके अलावा उन्हें पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार और संयुक्त राष्ट्र के यूएनएफसीसीसी के विकास परियोजनाओं के बारे में जानकारी रखनी चाहिए. .
• विश्लेषणात्मक तर्कशास्त्र (analytical reasoning) खंड में ज्यादतर उम्मीदवार आरएस अग्रवाल की किताब को पसंद करते हैं लेकिन वे एमके पांडे की Analytical Reasoning से भी मदद ले सकते हैं.
• गणित की तैयारी के लिए आरएस अग्रवाल काफी है. इस किताब में आईएएस के सिलेबस की व्यापक कवरेज है और इसे पढ़ने के बाद किसी और किताब को अलग से पढ़ने की जरूरत नहीं है.
• करेंट अफेयर्स के लिए द हिन्दू अखबार, पत्रिकाएं और डिजिटल मीडिया के अन्य प्लेटफॉर्म पर जाकर खबरें पढ़ने की सबसे अधिक सिफारिश की जाती है.हिंदी में अहा ज़िन्दगी दर्शन साहित्य और कला के लिए बेहतर मासिक पत्रिका है ।

•CSAT - ANY BOOK 
           

                          IAS Main (IAS की मुख्य परीक्षा)
जनरल स्टडीज IAS मेन्स पेपर -1
आर.एस. शर्मा का प्राचीन इतिहास , इस किताब में समय काल और राजवंशों की व्यापक कवरेज दी गई है लेकिन प्रत्येक अध्याय का सिर्फ सामाजिक– सांस्कृतिक और धार्मिक दृष्टिकोण ही महत्वपूर्ण है और इसे अलग से नोट किया जाना चाहिए.
नितिन सिंघानिया की कला एवं संस्कृति : यह किताब प्रिलिम्स के साथ– साथ मेन्स के लिए भी मायने रखती है. इस पूरी किताब को कम– से– कम एक बार पूरा पढ़ने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसे परीक्षा को ध्यान में रखते हुए बेहद सरल शब्दों में लिखा गया है.
बिपिन चंद्रा का आधुनिक इतिहास । यह किताब आधुनिक काल के आरंभ और संघर्ष के वर्षों का संक्षिप्त परिचय प्रदान करती है. परीक्षा के दृष्टिकोण से किताब को अच्छी तरह से पढ़ने से विषयों का सार तैयार करने में मदद मिलेगी.
राजीव अहीर की modern India: यह किताब प्रत्येक उम्मीदवार के लिए पढ़ना अनिवार्य है क्योंकि यह किताब प्रिलिम्स के साथ– साथ मेन्स के लिए भी बहुत उपयोगी है. खासकर, स्वतंत्रता संग्राम के लिए आधुनिक इतिहास पर लिखे गए अध्याय बेहतरीन हैं. (1857-1947).
पॉलिटिक्स इन इंडिया सिंस इंडिपेंडेंस : भारत में आजादी के बाद राजनीतिक विकास नई किताब है. इसमें प्रशासनिक एवं राजनीतिक बदलाव जैसे आपातकाल, पंजाब संकट और स्वतंत्रता के बाद भारत ने जितने भी युद्ध लड़े हैं, के बारे में लिखा गया है.
बिपिन चंद्रा की India since Independence यह बहुत बड़ी किताब है और इस किताब से स्वतंत्रता के बाद सामाजिक एवं आर्थिक समेकन पर और संविधान निर्माण, प्रिंस्ले स्टेट के समेकन और सामाजिक बदलावों पर लिखे कुछ अध्यायों से नोट्स तैयार करने की सलाह दी जाती है.
अर्जुन देव की World History इस किताब में भारत को प्रभावित करने वाला विश्व इतिहास, विश्व युद्धों से लेकर शीत युद्ध काल तक, के सभी विषयों पर विस्तार से लिखा गया है.
Physical Geography सविंदर सिंह भौगोलिक घटनाओं और जैसा कि पाठ्यक्रम में लिखा है, विश्व के भौतिक भूगोल की विशिष्टाताओं जैसी कुछ विशेष विषयों की तैयारी के लिए यह बेहद बुनियादी किताब है.
Human Geography ये social geography के नाम से मिलेगी।हिंदी में मौर्या की पुस्तक है।इस किताब में भूगर्भीय गतिविधियों के आधार पर विश्व के अलग– अलग स्थानों पर प्राथमिक, द्वितीयक और तृतियक गतिविधियों पर विशेष अध्याय हैं, जो परीक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.
India: Physical Environment (एनसीईआरटी): भारतीय भौतिक भौगोलिक विशेषताओं और पारिस्थितिकीय अंतःक्रिया की मूल बातों की तैयारी इस किताब से आसानी से की जा सकती है. इसमें भारतीय जलवायु और समग्र रूप में वनस्पति जैसे विषय को कवर किया गया है, जो इसे समझने में आसान बनाता है.
India People and Economy (एनसीईआरटी): इस किताब में भारतीय भौतिक पर्यावरण किस प्रकार मानवीय गतिविधियों को प्रभावित करता है और अपने प्राथमिक संसाधनों पर निर्भर करना किस प्रकार हमारी अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में विकास ला रहा है, जैसे विषयों को कवर किया गया है.
Indian Society (एनसीईआरटी): एनसीईआरटी की इस किताब से भारतीय समाज का उद्भव और भारतीय समाज के विकास को प्रभावित करने वाले विभिन्न वर्गों के बारे में आसानी से तैयारी की जा सकती है. यह किताब आपको भारतीय समाज के प्रथाओं और प्रवृत्तियों के अस्तित्व पर विकासवादी दृष्टिकोण प्रदान करेगी.
Social Change and Development in India (एनसीईआरटी): वैश्वीकरण, भारतीय परिवार बोध और महिला संगठन जैसे प्रासंगिक विषयों की तैयारी इस किताब से की जा सकती है. यह आपको देश के विकास में सामाजिक मुद्दों के प्रभाव पर प्रगतिशील दृष्टिकोण देगा.
जनरल स्टडीज IAS मेन्स पेपर 2
लक्ष्मीकांत की Indian Polity: आईएएस के प्रिलिम्स के साथ– साथ मेन्स परीक्षा की तैयारी के लिए शायद भारतीय राजनीति का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है . इसमें प्रसिद्ध न्यायिक मामलों के उदाहरण के साथ भारतीय संवैधानिक तंत्र पर विस्तृत ब्यौरा दिया गया है. किसी भी जारी घटना के स्थिर हिस्से की तैयारी इस किताब से की जा सकती है. इस किताब को शुरु से अंत तक पढ़ें औऱ जहां तक संभव हो सके बातों को याद करने की कोशिश करें. मुख्य परीक्षा के लिए सभी परंपरागत विषयों की तैयारी इस किताब से की जा सकती है.
डी.डी. बासु की Introduction to the Constitution of India: भारतीय संविधान का निर्माण, प्रस्तावना और मौलिक अधिकार जैसे विषयों की तैयारी के लिए इस किताब की सिफारिश सबसे अधिक की जाती है. वजह है संवैधानिक व्याख्या की दिशा में इस किताब का अनूठा दृष्टिकोण.
लक्ष्मीकांत की Governance in India: लोकतंत्र में सिविल सेवकों की भूमिका, प्रशासन में पारदर्शिता और समाज में ई–गवर्नेंस जैसे विषयों की तैयारी इस किताब से की जा सकती है. यह प्रशासनिक सुधारों पर विस्तृत राय भी प्रदान करता है.
इंडिया ईयर बुकः भारत सरकार द्वारा शुरु की गईं नई योजनाओं पर नोट्स तैयार करने के लिए कल्याण योजनाओं, शिक्षा, स्वास्थ्य और गैर–सरकारी संगठनों पर कुछ खास अध्याय ही इस किताब से पढ़े जा सकते हैं.
Contemporary World Politics (एनसीईआरटी): आजादी के बाद भारतीय विदेश नीति की मूल बातों को समझने के लिए एनसीईआरटी का यह किताब अच्छा स्रोत है. अंतरराष्ट्रीय राजनीति में भारत के रवैये का अंदाजा लगाने के लिए इसे एक ही बैठक में पढ़ लिया जाना चाहिए..
जनरल स्टडीज IAS मेन्स पेपर 3:
मिश्र पूरी या दत्त सुंदरम
उमा कपिला की Indian Economy: आजादी के बाद से भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में पढ़ने के लिए यह उत्कृष्ट स्रोत है क्योंकि इसमें योजना युग के आरंभिक चरणों में किए गए आर्थिक सुधारों के ज्वलंत मुद्दे दिए गए हैं.
आर्थिक सर्वे और राजकोषीय बजट ( Economic Survey and Fiscal Budget): बीते वर्ष के प्रश्नपत्रों को देखने से यह पता चला है कि कुछ प्रश्न सीधे– सीधे वार्षिक वित्तीय कथन से पूछे जाते हैं. इसलिए, आर्थिक सर्वे और बजट की मुख्य विशेषताओं को जरूर पढ़ना चाहिए. लेकिन इस मामले में प्रत्याशियों को बेहद चयनात्मक होना चाहिए क्योंकि ये संसाधान बहुत बड़े एवं समझने में जटिल होते हैं.
India People and Economy (एनसीईआरटी): इस किताब में भारतीय भौतिक पर्यावरण किस प्रकार मानवीय गतिविधियों को प्रभावित करती है और कैसे हमारे प्राथमिक संसाधनों पर निर्भरता हमारी अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में विकास की वजह बन रही है, जैसे विषयों को कवर किया गया है. इसमें भारतीय कृषि और परंपराओं को समग्र रूप से कवर किया गया है जिससे इसे समझने में आसानी होती है.
आपदा प्रबंधन पर एआरसी रिपोर्टः यह रिपोर्ट भारत के आपदा या संकट प्रबंधन की वर्तमान स्थिति को समझने का सबसे अच्छा साधन है. इसके अलावा, इसमें आपदा को संभालने के लिए संस्थागत तंत्र पर महत्वपूर्ण जानकारी भी होती है. यह अत्यधिक प्रामाणिक है और आपदा प्रबंधन के लिए सामाजिक तंत्रों को यहां से प्रत्यक्ष सुझाव दिया जा सकता है.
इंडिया ईयर बुकः भारत सरकार द्वारा शुरु की गईं नई योजनाओं पर नोट्स तैयार करने के लिए कल्याण योजनाओं, शिक्षा, स्वास्थ्य, आपदा प्रबंधन और आंतरिक सुरक्षा से संबंधित कुछ खास अध्याय ही इस किताब से पढ़े जा सकते हैं.
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के लिए: यह सच है कि जीएस पेपर III के लिए बाजार में विज्ञान और प्रौद्योगिकी हेतु इस प्रकार की कोई पठन सामग्री उपलब्ध नहीं है. कुछ प्रकाशक इस विषय पर भी किताब प्रकाशित कर रहे हैं लेकिन वे समय और पैसे दोनों की बर्बादी भर हैं.
जनरल स्टडीज IAS मेन्स पेपर 4:
नीतिशास्त्र के लिए इग्नू की पठन सामग्री: यह सामग्री पूरी तरह से उन छात्रों के लिए तैयार की गई है जो नीतिशास्त्र के लिए बिल्कुल नए हैं लेकिन इसमें नीतिशास्त्र की बुनियादी बातें और अखंडता का विषय भी है जो महत्व रखता है.
माइकल सैंडेल की Justice: What’s the right thing to do?: मनुष्य के जीवन में नैतिकता और नैतिक व्यवहार पर वास्तविक अंतर्दृष्टि देती है यह किताब. इसका प्रयोग नैतिकता क्या है और विश्व के माहौल को यह किस प्रकार प्रभावित करता है, जैसे बुनियादी प्रश्नों का जबाव देने के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता है.
12वीं कक्षा की एनसीईआरटी की मनोविज्ञान की किताब: इसकी उपयोगिता रवैया, दृष्टिकोण, विचार और धारणा जैसी कुछ विशेष अध्यायों को पढ़ने तक ही है.
जी. सुब्बा राव की Ethics, Integrity and Aptitude for Civil Services Examination: यह एक ही बार में पढ़ ली जाने वाली किताब नहीं है क्योंकि विषय को समझने में प्रयास और समय दोनों लगते हैं. भारतीय संदर्भ में यह आपको अच्छे उदाहरण देता है. .
नीरज कुमार की Lexicon for Ethics, Integrity & Aptitude for IAS General Studies: यह किताब नैतिकता और मूल्य प्रणाली की बुनियादी समझ देने और मुख्य परीक्षा में प्रासंगिकता के आधार पर दुहराने एवं अपने उत्तर को बेहतरीन बनाने की जरूरत को पूरा करने के लिए है.
नैतिकता पर प्रशासनिक सुधार आयोग की रिपोर्ट: यदि एक उम्मीदवार अपने तर्क को किसी लॉजिकल स्टैंड से सही बताना चाहता है तो प्रशासनिक सुधार आयोग की अनुशंसाएं उसके उत्तर के निष्कर्ष को बेहतर बनाने में मदद कर सकती हैं.
लक्ष्मीकांत की लोकप्रशासन में रिपोर्ट्स पढ़ें

No comments:

Post a Comment